Pages

Thursday, March 17, 2011

होली ....

होली ..हर उम्र में होली का अपना मज़ा होता है ..मन फागुन की बयार में बौराने लगता है आज भी बौइरा रही हूँ पर तुम पता नहीं कहा हो ..शायद कंधे पर लैपटॉप डाले ऑफिस की तरफ जा रहे होगे ...या अपनी शॉप पर बैठे होगे ..तुम कहाँ हो और आज क्या कर रहे हो मुझे कुछ भी नहीं पता पर हर होली  दिल में टीस जरूर दे जाती है ..... मेरी भटकी आँखों को कई बार ... निलय ने पकड़ा है  "किसे ढूंढ रही हो सपना " और मैं मज़ाक में कहती हूँ "जब तुम सामने हो तो मुझे किसी को ढूँढने की जरूरत नहीं ....
आज बरसो बाद सिगरेट पीने की इच्छा हो रही है ..मन कर रहा है दो कश भरु और और मुह से धुएं के साथ अपने अन्दर से तुम्हे भी बाहर निकाल दूं .. तुम्हारी यादें कसैली सी लगने लगी है ..तुमने जब हांथों में रंग लेकर मेरी तरफ पहली बार शरारत से देखा था तो सच मानो मेरे गाल भी उतने ही बेताब थे जितने तुम्हारे हाँथ ...और मैं बिलकुल नहीं चाहती थी कोई मेरे गालों पर तुमसे पहले गुलाल लगाये ...सारी रात इसी इंतज़ार में थी ...तुम कौन सा रंग लगाओगे ... सुर्ख लाल ..जो मैं तुम्हारे हांथो से अपनी मांग में देखना चाहती  थी ,चमकीला  हरा जो शायद मेरी कलाइयों में चूड़ी बन खनकेगा ..पीला जो हांथो में हल्दी बन सजेगा या फिर रुपहला मेरे सपनों की तरह.
तुम जब मेरी ज़िन्दगी में शामिल होने लगे थे तब बहुत कच्ची उम्र में थी मैं ..अल्हड पर तुमको देखते ही मानो किस अनुशासन से बंध जाती थी ..कितनी बार सोचती तुम कुछ कहो ..पर नहीं इसी अबोले पलो के बीच दिवाली से होली आ गई ....और मेरे मन में आकर्षण के बीज में अंकुर फूटने लगे ..कभी कभी जब तुम्हे सोचती तो शारीर से ना जाने कैसी सोंधी सी महक उठती और मैं कस्तूरी मृग की तरह बौरा उठती .... सब जादू सा लगता ...सपने सा ..सपना का सपना ...
तुम जब मेरी तरफ रंग लगाने के लिए बढे ..तो मैं सकुचा रही थी पर ..ये अनुभव बिलकुल वैसा नहीं था ...मेरे कोमल सपने एक पल में कुचल गए ...तुम्हारे हांथो में काला रंग था जो तुम बड़ी कठोरता से मेरे मुह पर मेरे गले पर लगा रहे थे ..और तुम्हारे दोस्तों की आवाजें "छोड़ना मत " ,"मौके का फायदा उठा यार ", "तेरी तो सेटिंग है "... कानो में पिघले सीसे की तरह उतर रहे थे मैं अपने को छुड़ाने की कोशिश कर रही थी ..बीच बीच में उठती ..शराब की तीव्र गंध में जो कस्तूरी  खोई वो आज तक नहीं  मिली ....
उस होली ने छोड़ा मुह पर काला रंग जिसको कितना उतारने की कोशिश की पर आज भी ..कहीं मन के कोने में रह गया है ..जो हर होली रंगों को देखते ही पूरे अस्तित्व को अँधेरे में डाल देता है ........
आज फिर होली है हर तरफ रंग है निलय आने जाने वालो को बोल रहे है सपना को रंग पसंद नहीं है ..और गुलाल के टिके लगा रहे है ...निलय के मनपसंद त्यौहार पर मेरा ना होना उसे मायूस तो करता है पर कभी भी उसने जबरदस्ती नहीं की ..जब भी वो नए शादीशुदा जोड़ो को होली में मस्ती करते देखता तो उसकी उम्मीद भरी आँखे मेरी तरफ उठ जाती ..ये हमारी शादी के बाद दूसरी होली है ..मैं निलय का चेहरा देख रही हूँ ...कितना प्यार करता है मुझे ...कितना सुरक्षित महसूस करती हूँ उसकी बाहों में ....और मैं किस के लिए  लिए निलय को तकलीफ दे रही हूँ जिससे मेरा कोई रिश्ता भी नहीं है 
अचानक सारी कालिमा ख़त्म होने लगती है और थाली में सजे रंग मानो आवाज़ देते है आओ और सजा लो हमें अपनी ज़िन्दगी में ..मेरे हांथो में गुलाबी रंग लिए मैं निलय पर टूट पड़ती हूँ और बिना उसे संभलने का मौक़ा दिए रंगों में सराबोर कर डालती  हूँ ... निलय की आँखों में कई रंग तैर जाते है ..भौचक्का .... विस्मय ...आश्चर्य .. शरारत ..फिर...  कितनी देर हम दोनों होली खेलते  रहे याद नहीं....इस होली की यादें ऐसी बनी की अब शायद कोई और होली कभी याद ना आये .....



--
Sonal Rastogi

37 comments:

  1. होली के रंगो मे भिगो दिया……………ऐसे ही भीगी रहें ता-उम्र्…………होली की हार्दिक शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  2. कुछ यादें ऐसी ही होती हैं जिन्हें भुला देना ही श्रेयष्कर होता है ....अच्छी प्रस्तुति ...

    होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  3. अच्छी प्रस्तुति ...

    होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  4. wo jo holi thi wo kahan , wo rang kahan , wo khushboo kahan , haye hum kahan aur tum kahan ....holi ki shubhkamnayen

    ReplyDelete
  5. बहुत ही प्यारी कहानी है. निराशा से आशा के रंगों की ओर ले जाती हुयी .....
    सोनल, आप बहुत अच्छा लिखती हैं| आपकी कहानियाँ, नज्में सब रूमानियत की जमीं पर बहुत ही सच्ची लगती हैं..

    ReplyDelete
  6. बड़ी मीठी सी कहानी है...

    ReplyDelete
  7. बहुत संवेदनशील कोमल भावमयी प्रस्तुति..होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  8. दिल को छू गयी .....
    जीवन में रंग भरे रहें ,होली मुबारक !!!

    ReplyDelete
  9. कडवी यादों को भुलाना और आगे बढ़ना यही जिंदगी है ...!

    ReplyDelete
  10. वाह सुंदर कवितात्मक.

    ReplyDelete
  11. होली की शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  12. "छोड़ना मत " ,"मौके का फायदा उठा यार ", "तेरी तो सेटिंग है "...
    ...मेरे कोमल सपने एक पल में कुचल गए


    काश! ये कहानी ही हो, किसी के जीवन की घटना ना हो।
    मगर अफसोस ऐसी घटनायें बहुत ज्यादा होती हैं, होली पर।
    अंत बहुत-बहुत पसन्द आया।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  13. होली की शुभकामनायें ...।।

    ReplyDelete
  14. अदभुत और अदिवितीय और क्या कहूँ

    ये है ही ऐसा त्यौहार

    होली है भाई होली है बुरा ना मानो होली है............ ऐसे कुछ शब्द जो कभी तो और रिश्तों में ऐसी कड़वाहट डाल देते है जिसका असर जाते जाते अरसा निकल जाता है

    और कभी रिश्तों की गरिमा में एक ऐसी मिठास घोल दे जिसका जायका सालो साल फीका न पड़े,

    और जो कड़वाहट इन शब्दों से आती है वो शायद जा भी इन्ही शब्दों से सकती है ...

    ReplyDelete
  15. होली की हार्दिक शुभकामनायें
    ब्लॉग पर अनियमितता होने के कारण सभी से माफ़ी चाहता हूँ ..

    ReplyDelete
  16. ओह्ह....ऐसे खुशगवार मौके पर ऐसा कुछ क्यूँ पढ़ा दिया.... वैसे कहीं न कहीं ऐसा होता है ज़रूर.... अरे नहीं गलत मत समझिये...हम ऐसे नहीं हैं...:)
    होली की मुबारकबाद...

    ReplyDelete
  17. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    http://vangaydinesh.blogspot.com/2011/03/blog-post_12.html

    ReplyDelete
  18. बहुत बढ़िया .....होली की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  19. बीती को बिसार के ...। बढ़िया कहानी!
    होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  20. wish u a happy holi dear...jaane kya kya yaad dila diya........

    ReplyDelete
  21. अरे होली मुबारका मुबारका ..... कोंन कोंन सा रंग रखा है बैग में....

    ReplyDelete
  22. आपको एवं आपके परिवार को होली की हार्दिक शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  23. holi ki haardik shubhkaamnaae....

    ReplyDelete
  24. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  25. दिल को बहुत करीब से छूती है आप की भावात्मक होली की यादे

    होली की शुभकामनायें

    ReplyDelete
  26. कमाल लिखती हैं आप सोनल जी.
    "उसके हाथ में काला रंग था....कितनी आसानी से विपरीत भावों को व्यक्त कर दिया आपने. बहुत सुन्दर.
    रंग-पर्व पर हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  27. सोनल जी आपका ब्लॉग देखा। मैं मेरठ से जनवाणी अखबार से हूं। डॉ अनुराग आर्य से पता चला कि आपका ताल्लुक मेरठ से है। मैं अखबार के लिए मेरठ के ब्लॉगर पर एक स्टोरी कर रहा हूं। संभव हो तो 09045582472 पर कांटेक्ट करें।

    ReplyDelete
  28. बहुत सुन्दर, आपको अनेकानेक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  29. होली पर उम्दा प्रस्तुती! लाजवाब पोस्ट!

    ReplyDelete
  30. Yuva hi kya badi umre ke log bhee mauke ka laabh utha kar tyohar ka mantavya kalushit kar dete hai. aachchhe vishye ke lie badhai.

    ReplyDelete
  31. आप को सपरिवार होली की हार्दिक शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  32. आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
    डंके की चोट पर

    ReplyDelete
  33. आपका ब्लॉग पसंद आया....इस उम्मीद में की आगे भी ऐसे ही रचनाये पड़ने को मिलेंगी

    कभी फुर्सत मिले तो नाचीज़ की दहलीज़ पर भी आयें-
    http://vangaydinesh.blogspot.com/
    http://pareekofindia.blogspot.com/
    http://kuchtumkahokuchmekahu.blogspot.com/

    ReplyDelete
  34. Dil ko chhuu gayi aapki ye kahani...man bheeng gaya holi ke fuharon mein....

    Wakai, bahut badhiya aur samayochit.

    ReplyDelete
  35. "....इस होली की यादें ऐसी बनी की अब शायद कोई और होली कभी याद ना आये ....."

    this line derives the force and passion of life !!!!

    Wish you a very happy Holi in advance :) :) :)!!!!

    ReplyDelete