Pages

Tuesday, August 30, 2011

ईद ऐसी भी

जब भी ईद आती है तो जुबां पर  सेवईयों की मिठास उभर आती है और साथ में याद आता है डिग्री कालेज  जहाँ मैं  कंप्यूटर पढ़ा रही थी दिवाली पर एक बड़ा आयोजन किया था तो ईद पर उम्मीदें बढ़ गई थी स्टुडेंट्स की कुछ तो ख़ास होगा ...समझ में नहीं आ रहा था कैसे मनाये कुछ संकोच भी था काफी स्टुडेंट्स थे ..... ईद मनाने के नाम पर सिर्फ  सेवईयों और चाँद के अलावा कुछ भी नहीं पता था ,कंप्यूटर क्लास की फीस मात्र 80 /- रुपये थी हर वर्ग की छात्राएं थी ...जब कोई हल नहीं मिला तो छात्राओ से ही सुझाव मांगे गए और उनका उत्साह और जोश देखकर मानो हमारी सारी परेशानिया छूमंतर हो गई ... स्टुडेंट्स ने हमको सारी तैयारी से बरी कर दिया ईद मनाने का मौक़ा ज्यादातर स्टुडेंट्स को कभी नहीं मिला था तो वो भी बेहद उत्साहित थी ईद के एक दिन बाद का दिन तय हुआ ...जब हम पहुंचे क्लास का सारा फर्नीचर बाहर था ..फर्श पर दरी के ऊपर खुबसूरत फूलों और बूटों से सजी चादरें बिछी थी बोर्ड पर नमाज़ पढ़ती लड़की का स्केच था, सेवियों की मीठी मीठी खुशबू आ रही थी सब एक दुसरे से गले मिले और ईद की मुबारकबाद दी,कुछ छात्राओ ने ईद की अहमियत भी बताई संकोच के परदे हट रहे थे अब मौहोल बेहद सहज हो चला था ....सारी मुस्लिम छात्राए अपने घरों से सेवइया लाइ थी ... डिब्बे खुले पर हर डिब्बा अलग किसी में केसर ,कोई मेवे से भरा ,तो किसी में सिर्फ सेवइया, कुछ चेहरों में संकोच उभर आया ...फिर धर्मसंकट ईद में अगर एक दिल में भी कसक रह गई तो दिल में हमेशा खटकेगा .... तभी एक छात्रा एक बड़ा बर्तन ले आई और सारी सेवइया मिला दी ....कुछ निगाहें तल्ख़ हुई ,कुछ मायूस और कुछ में मासूमियत भरी मुस्कान बिखर  गई ......और वो ईद बेहद मीठी और यादगार ईद बन गई ... उसके बाद हर ईद पर सेवईयों को मिस करते है
आप सभी की ईद मीठी हो ...

26 comments:

  1. एक बार हम मिलें , बातों बातों में यादों में मिठास भर दें .... ईद मीठी हो

    ReplyDelete
  2. स्मृतियों की मिठास।

    ReplyDelete
  3. मैंने पहली बार ईद शारजाह में अपने पाकिस्तानी दोस्त और उनके परिवार के साथ मनाई थी.. बस तब से ईद हमारे त्यौहारों में शामिल है!!

    ReplyDelete
  4. हमने भी पाठशाला में मीठी-मीठी ईद मनाई ! खूब सेवैयाँ खाईं | इसके साथ-साथ बालुश्याही,गुलाबजामुन और रसगुल्लों जैसी ही मीठी ईद | आप सबको ईद मुबारक :-)

    ReplyDelete
  5. बहुत-बहुत बधाई ||
    बढ़िया प्रस्तुति ||

    ReplyDelete
  6. ऐसी ईद को कौन नहीं मिस करेगा।

    हार्दिक शुभकामनाएं।

    समय मिले, तो हमारे घर सिंवई खाने आएं।

    ------
    चित्रावलियाँ।
    कसौटी पर शिखा वार्ष्‍णेय..

    ReplyDelete
  7. आपको भी सपरिवार ईद की हार्दिक मुबारकबाद!

    ReplyDelete
  8. ईद की सेवइयों की मिठास ही कुछ और होती है..
    ईद मुबारक!!

    ReplyDelete
  9. The bunch of
    "FLOWERS"
    Is being specially
    Delivered to u
    And yoUr family.
    Just to say
    "EID MUBARAK"

    ReplyDelete
  10. आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. सुन्दर प्रस्तुति...ईद मुबारक़

    ReplyDelete
  12. सरलता से बहुत अच्छी बात कही है.
    यदि मीडिया और ब्लॉग जगत में अन्ना हजारे के समाचारों की एकरसता से ऊब गए हों तो कृपया मन को झकझोरने वाले मौलिक, विचारोत्तेजक आलेख हेतु पढ़ें
    अन्ना हजारे के बहाने ...... आत्म मंथन http://sachin-why-bharat-ratna.blogspot.com/2011/08/blog-post_24.html

    ReplyDelete
  13. .
    .
    यादों की सिवैयाँ खाकर लिखी गयी पोस्ट !

    सुंदर ! ईद की मुबारकबाद..!

    ReplyDelete
  14. कल 1/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  15. पिछले कमेन्ट मे तारीख गलत हो गयी कृपया क्षमा करें।
    कल 2/09/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  16. खूबसूरत!
    तो मेरठ से हैं आप!
    बढ़िया है!
    आशीष

    ReplyDelete
  17. तभी एक छात्रा एक बड़ा बर्तन ले आई और सारी सेवइया मिला दी ....
    बहुत सुन्दर....
    ईद की सादर बधाइयां....

    ReplyDelete
  18. "फिर धर्मसंकट ईद में अगर एक दिल में भी कसक रह गई तो दिल में हमेशा खटकेगा .... तभी एक छात्रा एक बड़ा बर्तन ले आई और सारी सेवइया मिला दी ....कुछ निगाहें तल्ख़ हुई, कुछ मायूस और कुछ में मासूमियत भरी मुस्कान बिखर गई ......और वो ईद बेहद मीठी और यादगार ईद बन गई"

    नायाब

    ReplyDelete
  19. क्या बात है यही तो है त्योहारों की मिठास.

    ReplyDelete
  20. बहुत ही बढि़या ।

    ReplyDelete
  21. मधुर बचपन की यादों में चला गया मन ...ईद की मीठी सिवईयां आज भी मिठास भर देती हैं ..कितने स्नेहमई सुहाने थे वो फुर्सत के दिन.....ईद की हार्दिक शुभ कामनाएं !!!!

    ReplyDelete
  22. ऐसी सेवियों का मज़ा ही कुछ और होता है ...

    ReplyDelete