Pages

Thursday, January 12, 2012

उदास है कोई

सुर्ख  मौसम में भी उदास है कोई
होश गुम है बदहवास है कोई
आसुओं  से जल गए रुखसार जिसके
अपने साए को भी  भी नागवार है कोई
आहटों को तौलता रहता है
सन्नाटे को तोड़ता रहता है
सडको पर दौड़ता रहता है
मानो गुनाहगार है कोई

26 comments:

  1. सुन्दर कविता... बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  2. गर रहे यकीं खुद पर.तो जल्द ही फिर मुस्काएगा कोई.

    ReplyDelete
  3. गर रहे यकीं खुद पर.तो जल्द ही फिर मुस्काएगा कोई.

    ReplyDelete
  4. सन्नाटे को तोड़ता रहता है
    सडको पर दौड़ता रहता है ... आगे मुस्कान है

    ReplyDelete
  5. खूबसूरत अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  6. आपको लोहड़ी की हार्दिक शुभ कामनाएँ।
    ----------------------------
    कल 13/01/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  7. बहुत बेहतरीन और प्रशंसनीय.......
    मेरे ब्लॉग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  8. यह उदासी मिटे अब तो।

    ReplyDelete
  9. उदासी का क्या सबब है ? मौसम फिर मुस्कान दे जायेगा

    ReplyDelete
  10. Kai baar doodh ka jala chaach ko Bhi foonk Maar ke peeta hai ...

    ReplyDelete
  11. बेजोड़ भावाभियक्ति....

    ReplyDelete
  12. सुन्दर और स्पष्ट भाव
    सार्थक कविता

    ReplyDelete
  13. वाह...
    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  14. बहुत सुन्दर ..

    ReplyDelete
  15. अज़ब कशमकश है, अपने साये से नागवार है जिन्‍दगी; वाह.

    ReplyDelete
  16. आहटों को तौलता रहता है
    सन्नाटे को तोड़ता रहता है ...
    kya gajab ki line likhi gai he jo sidhe dil ko chedti he...

    ReplyDelete
  17. बहुत ही सटीक और भावपूर्ण रचना। धन्यवाद।

    ReplyDelete
  18. वाह ! नज़्म का ये टुकड़ा बेहतरीन लगा।

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सटीक और भावपूर्ण नज़्म...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  20. गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामना !

    ReplyDelete
  21. छोटी सी मगर अच्छी सी कविता

    ReplyDelete
  22. sundar kavita...gaagr me saagar si....bdhaai aap ko

    gau raksha hetu nirmit blog par aap saadr aamntrit hai....pdhaariyega..


    http://gauvanshrakshamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete