Pages

Friday, June 15, 2012

मुझे झूठा ही रहने दो


मुझे टूटा ही रहने दो
मुझे बिखरा ही रहने दो
संवर कर क्या करूंगी मैं
मुझे उजड़ा ही रहने दो
नहीं मेरे  लिए दुनिया
ना दुनिया के मैं काबिल हूँ
जिला कर क्या करोगे तुम
मुझे मुर्दा ही रहने दो
मैं हो जाऊं जो खँडहर
तो बेहतर ही समझना तुम 

सजेगी ना कभी महफ़िल
मुझे वीरां  ही रहने दो
आंसू की चंद बूँदें है 

गवाह  मेरी तबाही की 
यकीन क्योंकर करेगा वो 
मुझे झूठा  ही रहने दो 

20 comments:

  1. अरे....क्या है ये...???.पूरी कविता से मेरी असहमति दर्ज की जाये :(.

    ReplyDelete
    Replies
    1. मेरी भी...........................

      Delete
  2. कल की संवेदना गहरे तक पैठ गई है। उसी का प्रभाव है। नैराश्‍य भाव जगाती कविता!

    ReplyDelete
  3. आंसू की चंद बूँदें है
    गवाह मेरी तबाही की
    यकीन क्योंकर करेगा वो
    मुझे झूठा ही रहने दो ... भावमय करते शब्‍द

    ReplyDelete
  4. mujhe to lagta hai bass kisi baat ke gusse ko ya kisi bematlab ke dard ko shabd ka jama pahna diya gaya...:)
    .
    .
    sonal rastogi jaise vyaktitva par ya uske pen se nikli rachnao se mel nahi kha rahi....!
    .
    aage kuchh bhi likho kavi to us sse juda hi hota hai!

    ReplyDelete
  5. उम्दा काव्य चित्र,
    हमारा सजना भी क्या सजना
    आएंगे सजना तो होगा सजना

    ऐसे ही पूर्णिमा को एक महाकाव्य रचा गया रामगढ में,
    मिलिए सुतनुका देवदासी और देवदीन रुपदक्ष से।

    ReplyDelete
  6. सूरत प्यारी, प्यारी कलाकारी....
    रस से भरी हैं सोनल..
    इन्हें मीठा ही रहने दो.....
    :-)

    ReplyDelete
  7. कभी कभी गुस्सा यूँ भी बह निकलता है...

    ReplyDelete
  8. झूठा ही रहने दो ..... मुझे इत्मीनान से रहने दो

    ReplyDelete
  9. गज़ब लिखती हो सोनल, यूँ ही जीने दो झूठा ही रहने दो...

    आंसू की चंद बूँदें है
    गवाह मेरी तबाही की
    यकीन क्योंकर करेगा वो
    मुझे झूठा ही रहने दो

    ReplyDelete
  10. Nirash dil Nikli sada ....man ke bhav kyon aise ho jaate hai kabhi kabhi ... Pata nahi chal pata ...

    ReplyDelete
  11. यथास्थिति की कामना... पर संभव नहीं है

    ReplyDelete
  12. कमाल का लिखा सोनल ...बहुत खूब।

    ReplyDelete
  13. ये भी एक रंग है ज़िन्दगी का ...

    ReplyDelete
  14. उकेरी हुई आकृति के पीछे का चित्रण ( जो खोखला होता है ) | उत्कृष्ट रचना |

    ReplyDelete
  15. चलो , झूठा ही रहने दिया !

    ReplyDelete
  16. बहुत बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  17. सहेजने में कितना कुछ खोना पड़ता है।

    ReplyDelete