Pages

Tuesday, June 26, 2012

खुमार सावन का


चढ़ा आषाढ़ पर बुखार सावन का
कैसा है ये बवाल सावन का
सूखी पड़ी है पगडंडियाँ गाँव की
सबको है इंतज़ार सावन का
गर्म लू में भी फुहारों की बातें
अज़ब है ये खुमार सावन का
जहां देखो टंगी है आँखे  अम्बर पर
हर शख्स है तलबगार सावन का
झूले हांथों में चर्चे उसकी आमद के
जाने कब हो जाए  दीदार सावन का
अम्बर पे बादलों की आहट से चौकना
कितना मुश्किल है इंतज़ार सावन का
जिसके पिया इस बरस नहीं आयेंगे 
पूछो उससे कहर बेकरार सावन का
इस तीज बुलावा आएगा मां के घर से
बिटिया को है झूठा ऐतबार सावन का
फसल होगी, जलेगा चूल्हा इस साल
उसकी ज़िन्दगी पे है इख्तियार सावन का   
बहा था चढ़ती कोसी  में पिछले बरस
करता है वो कातिलों में शुमार सावन का 

23 comments:

  1. कुछ छण जो तुम पास बैठो
    लगे हर पल फिर सावन सा :)
    वैसे आखिरी २ पंक्तियों में कोसी का प्रयोग बहुत प्यारा लगा.

    ReplyDelete
  2. इस तीज बुलावा आएगा मां के घर से
    बिटिया को है झूठा ऐतबार सावन का

    सिर चढ़ बोला है खुमार सावन का .... सुंदर रचना

    ReplyDelete
  3. हाय हाय हमें तो कब है इंतज़ार सावन का ...

    बढिया जी बहुत खूब

    ReplyDelete
  4. सावन का इंतज़ार तो है पर वो सावन अब कहाँ

    ReplyDelete
  5. उम्मीद नहीं छोड़ी,अब तलक हमने,
    घटा झूम के बरसेगी,इंतजार सावन का !

    ReplyDelete
  6. ये बादल ही हैं जो खुमारी लेकर आ रहे हैं।

    ReplyDelete
  7. सावन अब पतझर लेकर आता है....अब वो बात कहाँ?न तो हरी चूडियाँ,ना कागज के नाव,ना किसानों कि आँखों कि चमक,ना मन को तृप्त करती प्यारी बरसात...सब सूना लगता है...बहुत हीं प्यारी रचना...
    आभार,
    स्वाति वल्लभा राज

    ReplyDelete
  8. किसी दैवीय संयोग से आपके ब्लॉग पर आना हुआ बेहद खुबसूरत संतुलित और गुम्फित आपकी कविता ने कैलाश गौतम जी की कविताओ की याद ताज़ा कर दी

    बानगी के लिए -लगे फूकने आम के बौर गुलाबी शंख ,कैसे रहे किताब में हम मयूर के पंख .

    ReplyDelete
  9. बहुत ही खुबसूरत ख्यालो से रची रचना......

    ReplyDelete
  10. सच में अब तो इंतज़ार मुश्किल है सावन का ... पिघलने लगे हैं सब ... अब तो आ जाओ ... ठंडक जाओ ...

    ReplyDelete
  11. सावन के आगमन पर शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  12. Very nice post.....
    Aabhar!
    Mere blog pr padhare.

    ReplyDelete
  13. Sawan ka intezar hamein bhi hai....garm ret pe hawayein nage paanv bhabhi hain aur unke chhalon ki tees hamein hoti hai......aise me sawan ke fuhar ka intezar to hai hi....aapki kavita ne us intezar ko khatm kar dia hai...behad bhaag se bheengi huyi man pran ko sin chit karti rachna....aabhaar!!

    ReplyDelete
  14. इस तीज बुलावा आएगा मां के घर से
    बिटिया को है झूठा ऐतबार सावन का
    वाह ... अनुपम भावों के साथ सावन का स्‍वागत अच्‍छा लगा ..

    ReplyDelete
  15. सावन को आने दो ................अभी बहुत लोग इंतजार में हैं पर आपके शब्द आशा बढा रहे हैं

    ReplyDelete
  16. अपनी अपनी कहानी, अपना अपना सावन! सोना बनी घास और झुलसे पौधे यहाँ भी सावन की प्रतीक्षा कर रहे हैं, शायद कल बरसे!

    ReplyDelete
  17. कितना मुश्किल है इंतज़ार सावन का ...wah kya baat hai
    apki sawan series bahut he umda hai

    ReplyDelete