Pages

Tuesday, September 18, 2012

हथेली पे सूरज

हथेली पे सूरज 



अपने हिस्से का 
उगा लिया सूरज
खुश हूँ तुमने 
पा लिया सूरज 
कितनी बार 
बादलो ने 
छुपा लिया सूरज 
खुश हूँ तुमने 
पा लिया सूरज 
किस्मत ने 
जब दबा लिया सूरज 
खुश हूँ तुमने 
पा लिया सूरज 
सोनल 

19 comments:

  1. :) Beautiful...क्या शब्द दिए हैं तस्वीर को.

    ReplyDelete
  2. वाह......
    क्या इंस्टेंट रचनात्मकता है...
    सुन्दर!!!!!

    अनु

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर....
    :-)

    ReplyDelete
  4. सुन्दर, काव्यात्मक सूर्य..

    ReplyDelete
  5. कौन चित्रकार है , सोनल शब्दकार है . अति सुन्दर

    ReplyDelete
  6. मतलब फोटो देख के कविता लिख डाली, शानदार !!!! :)

    ReplyDelete
  7. वाह अगर सूरज यूँ ही मिल जाए तो क्या कहना, गणेश चतुर्थी की हार्दिक शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  8. दुआ मांगी हाथ उठा के रब से उसने जब ,
    एक नूर सा चमका और सारा जहां रोशन हो गया |

    ReplyDelete
  9. सूरज की चाह सभी को होती है ... उर वो मिल जाय तो जीवन रौशन हो जाता है ...
    बहुत खूब चाहत है ...

    ReplyDelete
  10. कल 23/09/2012 को आपकी यह बेहतरीन पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  11. shayad yahi tasveer mere post ki inspiration hai....matlab jo aaj lagai hai post wo usi din likhi thi jis din ye photo upload hui thi...

    ReplyDelete
  12. aur kavita to pyaari hai hi :)

    ReplyDelete
  13. आफ़ताब को छू लेने भर से उसके छिपने का गुमान न कर ये वो आग है जिससे दुनिया रोशन होती है | शानदार .....

    ReplyDelete
  14. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति .पोस्ट दिल को छू गयी.......कितने खुबसूरत जज्बात डाल दिए हैं आपने..........बहुत खूब,बेह्तरीन अभिव्यक्ति .आपका ब्लॉग देखा मैने और नमन है आपको और बहुत ही सुन्दर शब्दों से सजाया गया है लिखते रहिये और कुछ अपने विचारो से हमें भी अवगत करवाते रहिये.

    ReplyDelete