Pages

Thursday, December 5, 2013

बहुत काम है मुझको



बहुत काम है मुझको
लाल सूरज उगाना है
नया सा राग गाना है  
सितारे बाँध रख छोड़े
ओस बिंदु उठाना है
संवरने की कहाँ फुर्सत
अभी दिन भी सजाना है
जुगनू को सुलाना है
कलियों को जगाना है
भोर से रूठ छिप बैठी
उसे अब खींच लाना है
तुम्हारे जागने से पहले
दुनिया को सजाना है

12 comments:

  1. यह तो एक परी कथा ही हुई !
    बहुत सुन्दर !

    ReplyDelete
  2. और यह बताना तो भूल ही गई आप कि यह रोज़ का सिलसिला है ... केवल किसी एक दिन का नहीं |

    ReplyDelete
  3. खिला सा मन तो खिल उठे जीवन ....

    ReplyDelete
  4. वाह...इतने सारे सुन्दर सुन्दर काम......
    जगते ही दीवाना बना दोगी उसको ????
    :-)

    अनु

    ReplyDelete
  5. बहुत सुंदर भाव.
    यहाँ भी पधारिए
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    ReplyDelete
  6. खुद को भी जागा ही दीजिये :)

    ReplyDelete
  7. इतना सब कुछ - वाह वाह

    ReplyDelete
  8. So... Nal.. Bhavon ke.. one sonal. always great

    ReplyDelete
  9. भाव मय ... करने की ठान लो तो जरूर पूरी होती है ...

    ReplyDelete
  10. मैं एक Social Worker हूं और Jkhealthworld.com के माध्यम से लोगों को स्वास्थ्य के बारे में जानकारियां देता हूं। आप हमारे इस blog को भी पढं सकते हैं, मुझे आशा है कि ये आपको जरूर पसंद आयेगा। जन सेवा करने के लिए आप इसको Social Media पर Share करें या आपके पास कोई Site या Blog है तो इसे वहां परLink करें ताकि अधिक से अधिक लोग इसका फायदा उठा सकें।
    Health World in Hindi

    ReplyDelete