Pages

Sunday, September 26, 2010

चलो मैं बे-वफ़ा हो जाती हूँ

इतनी नजदीकी अच्छी नहीं


चलो कुछ खफा हो जाती हूँ

अपना ही मज़ा है बेचैन करने का

चलो मैं बे-वफ़ा हो जाती हूँ



तेरे सामने आऊं भी नहीं

तुझे महसूस हर लम्हा रहूँ

मांगे तू भी साथ मेरा शिद्दत से

चलो मैं खुदा सी हो जाती हूँ



कब तक नशीली रात सी रहूँ

होंठो पे छिपी बात सी रहूँ

जान जाए ये ज़माना मुझको

चलो चटख सुबह सी हो जाती हूँ



जितना जानो उतना उलझ जाओ

इतना उलझो ना सुलझ पाओ

ना जाने किस वक्त ज़रुरत पड़े

चलो मैं दुआ सी हो जाती हूँ



कभी देखो तो अनजान लगूं

कभी दिल की मेहमान लगूं

एक झलक देख लो तो दीवाने हो जाओ

चलो मैं उस अदा सी हो जाती हूँ

46 comments:

  1. nice to be here!
    keep writing!.....all the best
    regards,
    sanjay

    ReplyDelete
  2. वाह जी क्या बात है...हर सोच में अदा है आपकी तो.

    सुंदर अभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  3. bahut pyaree shoukh chanchal see kavita.....

    ReplyDelete
  4. कब तक नशीली रात सी रहूँ

    होंठो पे छिपी बात सी रहूँ

    जान जाए ये ज़माना मुझको

    चलो चटख सुबह सी हो जाती हूँ

    वाह ..खूब चटख रंग बिखेरे हैं ...सुन्दर ..

    ReplyDelete
  5. ये अदा बड़ी अच्छी है ...चलो आशिक सा हो जाता हूं

    दिल को छू गई आपकी ये रचना...बेहतरीन

    ReplyDelete
  6. बेहद उम्दा रचना ! बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  7. दिल को छू गई आपकी ये रचना...बेहतरीन

    ReplyDelete
  8. बड़ी दमदार अठखेलियाँ आपके प्रेमाभिव्यक्ति की।

    ReplyDelete
  9. bahut khub ...चलो चटख सुबह सी हो जाती हूँ

    ReplyDelete
  10. क्या बात है..गजब!

    ReplyDelete
  11. बहुत बार आपकी रचनाएँ देखी, पढ़ीं पर टिप्पणी नहीं कर पाया, इस बार बिना किये नहीं जाऊँगा

    चलो मैं उस अदा सी हो जाती हूँ

    इस आखिरी पंक्ति में सब कुछ कह दिया है आपने. सब कुछ हो जाना चाहती है वह उसके प्यार में.... बहुत ही सुन्दर


    मेरे ब्लॉग पर भी पधारियेगा.

    manojkhatrijaipur.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. jab bhi padhti hoon
    tumhari ishqkiya nazm
    bas main bhi
    'waah waah' si ho jati hoon :)
    keep going!!

    ReplyDelete
  13. इतने सलीके से,
    क़त्ल करना सीखे आपसे कोई,
    गोया नज्में कह रही हो,
    ३०२ दफा हो जाती हूँ !

    लिखते रहिये ...

    ReplyDelete
  14. सोनल बहुत खूब । दिल को छू गयी रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  16. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी रचना 28 - 9 - 2010 मंगलवार को ली गयी है ...
    कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया

    http://charchamanch.blogspot.com/

    ReplyDelete
  17. कब तक नशीली रात सी रहूँ

    होंठो पे छिपी बात सी रहूँ

    जान जाए ये ज़माना मुझको

    चलो चटख सुबह सी हो जाती हूँ
    वाह..क्या पंक्तियां है...सुंदर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. बेहद उम्दा रचना ! बधाइयाँ और शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  19. इतनी नजदीकी अच्छी नहीं


    चलो कुछ खफा हो जाती हूँ

    अपना ही मज़ा है बेचैन करने का

    चलो मैं बे-वफ़ा हो जाती हूँ

    khatarnak irade rakhti hain aap to .. :D

    badhiya rachna hai

    ReplyDelete
  20. शरारत करना कोई आपसे सीखे। तरसा तरसा के प्यार करती हैं आप।

    ReplyDelete
  21. माशूक़ तो वैसे भी आशिक़ का ख़ुदा होती है, और रात भी, भोर भी, और दिखाती है वो अदा भी जो दीवाना बना दे, और बेवफ़ाई तो सचमुच दीवाना कर देती है..लिहाजा ये ग़ज़ब न करना आप. वर्ना कहीं ख़ुद ही रास्तों पे न चिल्लाना पड़े कोई पत्थर से ना मारे मेरे दीवाने को..
    अच्छी कविता, हर बार की तरह!!

    ReplyDelete
  22. तेरे सामने आऊं भी नहीं
    तुझे महसूस हर लम्हा रहूँ
    महसूस तो उसी को किया जा सकता है जो सामने न हो. महसूसने की हद तक हो जाने की सुन्दर तमन्ना है इस सुन्दर रचना में.

    ReplyDelete

  23. बेहतरीन पोस्ट लेखन के बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है-पधारें

    ReplyDelete
  24. अपना ही मज़ा है बेचैन करने का
    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  25. आप आजकल है कहां


    खैर... शायद वयस्तता चल रही हो

    हां... रचना अच्छी है हमेशा की तरह बोले तो भन्नाट और झकास

    ReplyDelete
  26. सही कहा आपने ..आप कुछ भी हो सकती हो
    कविता का प्रवाह बहुत सुन्दर रहा और भाव बहुत रंग बिरंगे

    ReplyDelete
  27. is rachna ke bhav bahut achchhe hain Sonal ji... tippani kiye bina nahi raha gaya.

    badhai sweekaren

    ReplyDelete
  28. वाह...बहुत खूब !!!

    सचमुच इसी से तो प्रेम और अनुपम लगने लगता है...
    बहुत मोहक भावाभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द लिये हुये भावमय प्रस्‍तुति ।


    चर्चा मंच का आभार इस प्रस्‍तुति को पढ़वाने के लिये।

    ReplyDelete
  30. Bahut sunder aur dil ko choo lene wali ada bhari kavita. bahut badhai

    ReplyDelete
  31. अच्छी कविता लिखते रहिये ।

    ReplyDelete
  32. जितना जानो उतना उलझ जाओ

    इतना उलझो ना सुलझ पाओ

    ना जाने किस वक्त ज़रुरत पड़े

    चलो मैं दुआ सी हो जाती हूँ
    सुन्दर पंक्तियाँ हैं :)

    ReplyDelete
  33. कभी देखो तो अनजान लगूं
    कभी दिल की मेहमान लगूं
    एक झलक देख लो तो दीवाने हो जाओ
    चलो मैं उस अदा सी हो जाती हूँ

    वाह ... क्या लाजवाब सी अदा है आपकी ... ये रचना भी तो एक तरह की अदा ही है .... बहुत अच्छी प्रस्तुति ...

    ReplyDelete
  34. जितना जानो उतना उलझ जाओ

    इतना उलझो ना सुलझ पाओ

    ना जाने किस वक्त ज़रुरत पड़े

    चलो मैं दुआ सी हो जाती हूँ

    itni khubssorat line ki me to bewafa hi ho gaya

    ReplyDelete
  35. ================================
    मेरे ब्लॉग पर इस बार थोडा सा बरगद..
    इसकी छाँव में आप भी पधारें....

    ReplyDelete
  36. बहुत सुन्दर..............

    ReplyDelete
  37. Sonal Ji,
    Achcha khayal hai ruthne ka aur phir khud hi suljaane ka ..... Badiyaa hai
    कभी देखो तो अनजान लगूं

    कभी दिल की मेहमान लगूं

    एक झलक देख लो तो दीवाने हो जाओ

    चलो मैं उस अदा सी हो जाती हूँ
    Surinder Ratti
    Mumbai

    ReplyDelete
  38. कभी देखो तो अनजान लगूं

    कभी दिल की मेहमान लगूं

    एक झलक देख लो तो दीवाने हो जाओ

    चलो मैं उस अदा सी हो जाती हूँ .... bahut roomaanee !

    ReplyDelete
  39. bohot bohot bohot cute si nazm hai, ekdum pyaari si...:)

    ReplyDelete
  40. ye woh hai jo khud banti hai andar se aati hai..great one!

    ReplyDelete
  41. बहुत सुंदर रचना हैं ।

    ReplyDelete