Pages

Friday, September 25, 2009

चाहत

किस्मत से शिकायत का क्या फायदा ,
एक तरफा मुहब्बत का क्या फायदा
चाहो उसे जो चाहे तुम्हे
बेमतलब की चाहत का क्या फायदा

22 comments:

  1. आपसे सहमत नहीं हूँ पर आपकी भावना अच्छी लगी
    सुंदर

    ReplyDelete
  2. चिट्ठाजगत में आपका स्वागत है.......भविष्य के लिये ढेर सारी शुभकामनायें ।

    गुलमोहर का फूल

    ReplyDelete
  3. आपका हिन्दी चिट्ठाजगत में हार्दिक स्वागत है. आपके नियमित लेखन के लिए अनेक शुभकामनाऐं.

    एक निवेदन:

    कृप्या वर्ड वेरीफीकेशन हटा लें ताकि टिप्पणी देने में सहूलियत हो. मात्र एक निवेदन है.

    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:

    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?> इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें..बस हो गया..कितना सरल है न!!

    ReplyDelete
  4. फायदा है कवीता बन जाती है लिखती रहैं

    ReplyDelete
  5. बढ़िया है..ऐसे ही नियमित लिखती रहें।

    ॥दस्तक॥

    ReplyDelete
  6. well said.
    चिटठा जगत में आपका हार्दिक स्वागत है. शुभकामनाएं. जारी रहें.

    ---
    Till 30-09-09 लेखक / लेखिका के रूप में ज्वाइन [उल्टा तीर] - होने वाली एक क्रान्ति!

    ReplyDelete
  7. चाहत पे भी वश होता क्या लगता प्रश्न विशाल।
    और नफा, नुकसान इश्क में उलझा हुआ सवाल।।

    ReplyDelete
  8. theek-thaak hi lagi aapki kavitaa....aur maanjhhe ise.....!!

    ReplyDelete
  9. सौदेबाजी ठीक नहीं । लिखते रहिये ।

    ReplyDelete
  10. kavita achhi lagi usmey imandari hai kahani navlekhak ke liye achha prayas hai sarthak likhney ke liye sarthak pada jana aur bahut padna jaroori hai

    ReplyDelete
  11. कोई भी शहर छोटा नहीं होता। आप जैसे रचनाकर ही किसी शहर या कस्बे को बड़ा बनाते हैं।
    अच्छी शुरुआत की है। जारी रखें। स्वागत और बधाई। मेरे ब्लॉग पर भी आएं।

    ReplyDelete
  12. " sonal,aapka swagat hai "

    likhate rahiye

    ----- eksacchai{ AAWAZ }

    http://eksacchai.blogspot.com

    http://hindimasti4u.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. sher thik thak hai ...koi khas nahi ..or mahnat kare..

    Deepak :bedil.

    http://ajaaj-a-bedil.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. acha likha hai sahi kaha hai..magara ye ek alg bat hai hamesha nahi ho pata ye

    ReplyDelete
  15. अच्‍छी कविता है,
    बहुत खूब, लो आपसे प्रेरणा लेकर चंद पंक्तियां हम ने भी लिख दी

    "फायदे-नुकसान का हिसाब न कर,
    हर वक्‍त दिलवालों की मजाक न कर,
    कुछ तो उनमें भी होगी कुव्‍वत,
    इनकी मेहनत को तू बेकार न कर,

    मिलता है दुतरफा प्‍यार, सब चाहने वालो को,
    उपर वाले पर बस तू विश्‍वास कर,
    शरीके गम में भी होना भी है एक आनंद,
    दिल है, दर्द का एहसास कर। "

    अन्‍यथा न लें,
    स्‍वागत है ब्‍लॉग जगत में पदार्पण पर। लगे रहो, लिखते रहो।

    ReplyDelete
  16. चाहत तो बेमतलब की ही होती है, मतलब हो तो चाहत कहां । यह तो सौदा हुआ।

    ReplyDelete
  17. चाहत चाहने से या सोच कर पैदा नहीं होती । चाहत बीज है दुख के पौधे का। लेखन के लिये बधाई। मेरे ब्लोग पर भी दस्तक दें।

    ReplyDelete
  18. चिट्ठाजगत में स्वागत है

    ReplyDelete
  19. Bahut Barhia... aapka swagat hai...

    thanx
    http://mithilanews.com

    please visit

    http://hellomithilaa.blogspot.com
    Mithilak Gap... Maithili Me

    http://mastgaane.blogspot.com
    Manpasand Gaane

    http://muskuraahat.blogspot.com
    Aapke Bheje Photo

    ReplyDelete
  20. आपका स्वागत है
    आपको पढ़कर अच्छा लगा
    शुभकामनाएं


    *********************************
    प्रत्येक बुधवार सुबह 9.00 बजे बनिए
    चैम्पियन C.M. Quiz में |
    प्रत्येक रविवार सुबह 9.00 बजे शामिल
    होईये ठहाका एक्सप्रेस में |
    प्रत्येक शुक्रवार सुबह 9.00 बजे पढिये
    साहित्यिक उत्कृष्ट रचनाएं
    *********************************
    क्रियेटिव मंच

    ReplyDelete