Pages

Tuesday, December 21, 2010

सर्द मौसम

चटक चांदनी
फीकी सुबहें
मौसम का
अंदाज़ है
सुबह हवा ने
...बतलाया था
सूरज कुछ
नाराज़ है
धुंध लपेटे
चुप पड़ा है
बड़ा बिगड़ा
नवाब है
 

16 comments:

  1. सूरज कुछ
    नाराज़ है
    धुंध लपेटे
    चुप पड़ा है
    बड़ा बिगड़ा
    नवाब है

    सच जाड़ा आते ही बड़ा बिगड़ा नबाब बन जाता है...बड़े नखरे हैं सूरज महाराज के

    ReplyDelete
  2. ji bilkul...aajkalsuraj maraj kuch jyada hi bhaw kha rhe hai....!! happy winter ...


    Jai HO Mangalmay HO

    ReplyDelete
  3. सूरज तो गर्मी में नाराज हो जाते हैं।

    ReplyDelete
  4. क्या बात है!
    सूरज देवता कुछ समय और ऐसे ही नाराज़ रहेंगे.

    ......................
    'सी.एम.ऑडियो क्विज़'
    हर रविवार प्रातः 10 बजे

    ReplyDelete
  5. ... kyaa baat hai ... bahut badhiyaa !!!!

    ReplyDelete
  6. सूरज की नाराजगी अपनी जगह सही है

    ReplyDelete
  7. कुछ तो है इस कविता में, जो मन को छू गयी।

    ReplyDelete
  8. सूरज कुछ
    नाराज़ है
    धुंध लपेटे
    चुप पड़ा है
    बड़ा बिगड़ा
    नवाब है

    बहुत सुन्दर...

    ReplyDelete
  9. chup pade pade hi har roj har insaan ka ek din qatl kar deta hai. itni shakti hai is suraj mein

    ReplyDelete
  10. सूरज को परवाह नहीं है
    सब बैठे अगवानी में,
    जी करता है आग लगा दें
    सूरज की मनमानी में.
    खुद सोया है ओढ़ के चादर
    हम बैठे हैं पानी में!!

    ReplyDelete
  11. wah kya baat hai........
    saamyik rachana........
    aabhar

    ReplyDelete
  12. ये छोटी सी नज़्म तो बहुत ही प्यारी है ..सचमुच

    ReplyDelete
  13. मतलब ठण्ड शुरू हो गयी वहां, पैकिंग में स्वेटर बाधा लेते हैं लौटते वक़्त !!!!

    ReplyDelete