Pages

Monday, February 7, 2011

कई साल पहले ...लिखी थी ये ..किसी ख़ास के लिए

एक  रोज़  मैंने  सोचा  तुमको  एक  rose   दूं  मैं
पर  दिल   मेरा  बोला  क्यों  रोज़  rose दूं  मैं
एक  रोज़  rose लेकर  तुम  ज़िन्दगी में आओ
मैं  तो  चाहू  हर  रोज़  rose लाओ
पर  आज  rose day है  मेरा  है  तुमसे  कहना 
मेरी  ज़िन्दगी  में  हर  रोज़  फ्रेश  rose बनकर  रहना ....

24 comments:

  1. वो खास अब कहाँ है इम्पोर्टेंट ये है.. :)

    ReplyDelete
  2. गुलाब सा खिले जीवन प्रतिदिन।

    ReplyDelete
  3. अब सभी ब्लागों का लेखा जोखा BLOG WORLD.COM पर आरम्भ हो
    चुका है । यदि आपका ब्लाग अभी तक नही जुङा । तो कृपया ब्लाग एड्रेस
    या URL और ब्लाग का नाम कमेट में पोस्ट करें ।
    http://blogworld-rajeev.blogspot.com
    SEARCHOFTRUTH-RAJEEV.blogspot.com

    ReplyDelete
  4. एक बेहतरीन रचना ।
    काबिले तारीफ़ शव्द संयोजन ।
    बेहतरीन अनूठी कल्पना भावाव्यक्ति

    ReplyDelete
  5. bhagwan kare roj aapko ROSE mile...:)

    bahut khub!!

    ReplyDelete
  6. वाह, रोज और rose का बढिया प्रयोग किया है
    उम्दा कविता

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सुन्‍दर ...।

    ReplyDelete
  8. awwwwww....shoo shweeeeeet ;)

    ReplyDelete
  9. वो भी क्‍या दिन थे, जब पसीना गुलाब था...

    ReplyDelete
  10. कोमल भावों से सजी ..
    ..........दिल को छू लेने वाली प्रस्तुती

    ReplyDelete
  11. ’गुलाब दिवस’ पर गुलाब जैसी महकती शुभकामनाएं ।

    ReplyDelete
  12. बहुत खूब सोनल जी.
    शुभ कामनाएं.

    सादर

    ReplyDelete
  13. ईश्वर से प्रार्थना है कि आपका हर दिन रोज़ डे हो और आपके और आपके उस ख़ास के बीच गुलाबकी ख़ुशबू हो काँटे कभी न हों!!

    ReplyDelete
  14. बहुत ही सुन्‍दर भावाव्यक्ति| धन्यवाद|

    आप को बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर.
    सलाम.

    ReplyDelete
  16. ये रोज तुम्हें रोज रोज मिले :)

    ReplyDelete
  17. ये तो आपने कविता को बिलकुल अलंकृत कर दिया.....मालूम नहेन्न. यमक है या शेष.....लेकिन जो भी है अच्छा है....

    ReplyDelete
  18. यहाँ आया मन गुलाबी हो गया |आपकी कविता पढे तो मन गुलाबी हो गया |बहुत बढियां पोस्ट है बधाई सोनल जी |

    ReplyDelete
  19. यहाँ आया तो यहीं पर खो गया |आपकी कविता बसंती मन गुलाबी हो गया |सोनल जी बहुत बढ़िया लिखा है आपने |बहुत बहुत बधाई |

    ReplyDelete