Pages

Thursday, June 2, 2011

माचिस की डिब्बी

मई के महीने में शीत लहर सी दौड़ गई ...अन्दर तक काँप गई वो  नहीं वो नहीं हो सकता यहाँ  क्या कर रहा है .... क्या कशमकश है जिसकी एक झलक देखने को सारी दोपहर खिड़की पर गुज़ार देती थी लू के थपेड़े भी ठन्डे मालूम पड़ते थे आज उससे सामना होने के अंदेशे से कलेजा मुह को आने लगा है.... किसी अनहोनी कि आशंका से वो घबरा उठी.
 हे भगवान् वो  ना हो .... उसके  के होंठ बुदबुदा उठे , पहली बार अपनी सहेली दिशा के घर मिली थी उसकी  बुआ का बेटा था गर्मी की छुटियों बिताने, पहली नज़र में  कुछ अजीब सा लगा था पर जब उसने मुस्कुरा कर देखा तो आँखे और दिल दोनों उसके पास कब ट्रांसफर हो गए पता ही नहीं चला ... कितनी दोपहर दोनों साथ रहते एक दिन जब बातों बातों में  उसने  हँसते हुए धीरे से हथेली दबा दी थी पूरी कि पूरी पसीने से भीग गई थी ...बस चिट्ठियों का सिलसिला चल निकला ...माचिस की डिब्बी में सात तह में मुड़े ख़त ...उस दौर में उन खतों से ज्यादा कुछ भी कीमती नहीं था ..पर जला कर फ्लश करने पड़ते थे पर उससे पहले हज़ार बार चूमे जाते ....
उसके जाने के बाद दिशा को हमराज़ बनाया ...
अब उसकी चिठियाँ किसी और  के पते से उसके  के हांथो तक आती  .... हर शब्द नए सपनो तक ले जाता ..आँखे कुछ मुंदी और कुछ खुली सी रहती हर वक़्त हलकी हरारत सी ...पर इलाज करने वाला तो बहुत दूर बैठा था ..फोन पर बात ना करने का फैसला हम दोनों का ही था और चिट्ठिया जलाने का भी .... इस दफा गर्मी की छुटिया कुछ देर से आई या साल बहुत धीरे बीता निगाहें किसी ऐसे को ढूंढ रही थी जो वहां नहीं था ..... पर वो आया अभी भी उतना ही मासूम लग रहा था और वही मुस्कराहट जिसने मुझे खुद को खोने पर मजबूर कर दिया था ...
उसने फरमान भेजा ..मिलना है ..
पर कहाँ ?उसका  सवाल था
जहां तन्हाई मिले .... उसने मुस्कुरा कर कहा
दो लोग एक साथ कभी तन्हा नहीं होते .. और तन्हाई वो सेफ नहीं ...वो मुस्कुरा दी
तुम्हे किससे डर लगता है ...मुझे से या मेरे साथ तन्हाई में मिलने से
मुझे खुद से डर लगता है वो खिलखिला दी... पर पता नहीं क्यों वो खुद इस डर को जीना चाहती थी पिछले एक साल कई बार वो तन्हाई में मिलना चाह रहा था हर ख़त में पूछता था आज उसकी बे-ताबी उसकी आँखों से साफ़ झलक रही थी
 वो जब मिले तो जाना ख़त दर ख़त दोनों का रिश्ता कितना मज़बूत हो चुका है दोनों असहज थे ..फिर सहज हुए फर असहज हुए ... उसके बालों से गुलाब की  भीनी महक आ रही थी ... कुछ देर बाद वो महक उसके वजूद का हिस्सा बन गई ..
ना फूल सदा रहते है ना खुशबू ...उसका रिश्ता तय हो गया बहुत रोई ..गिड़गिड़ाई  किसी तरह उसको फोन किया ...
"नहीं तुम ऐसा नहीं कर सकती ..मैं अभी ट्रेनिंग पर हूँ ६ महीने नहीं आ सकता"
"मैं घर वालों को नहीं समझा सकती"
"मैं तुम्हारे ख़त तुम्हारे ससुराल पोस्ट कर दूंगा ,अगर मेरी नहीं तो किसी कि भी नहीं "
प्यार, यादें ,मायका सब छोड़ कर जाना पड़ा ..और रमते रमते रम गई .... जो नहीं मिला उसका क्या गम करे जो मिला वो भी तो बुरा नहीं ...
आज २ साल बाद खुमारी ,खुशबू ,तन्हाई  ,माचिस की डिब्बी और उसमें दबे ख़त सब ज़िंदा हो गए ...
वो सामने खड़ा था और शायद पहचानने कि कोशिश कर रहा था ... एक कसक सी आँखों में उतरी फिर अजनबी सन्नाटा  पसर गया ... उसने देखकर भी नहीं देखा ...बड़ी देर तक उसकी धड़कन तेज़ रही ....
आज दो दिलो ने वाकई सन्नाटे को देर तक सुना

29 comments:

  1. बहुत मर्मस्पर्शी कहानी लिखी है आपने.

    सादर

    ReplyDelete
  2. एक कसक सी आँखों में उतरी फिर अजनबी सन्नाटा पसर गया ... उसने देखकर भी नहीं देखा ...बड़ी देर तक उसकी धड़कन तेज़ रही ....
    आज दो दिलो ने वाकई सन्नाटे को देर तक सुना

    उफ़ …………निशब्द कर दिया।

    ReplyDelete
  3. आखिर माचिस की डिब्बी ने अपना काम कर ही दिया ... यह आग तो शायद कभी भी पूरी तरह से नहीं बुझती !

    ReplyDelete
  4. वो कसक ..कहानी के एक एक शब्द में दृश्य है.

    ReplyDelete
  5. हम्म....कहीं बहुत गहरे छू गई यह कहानी...बहुत उम्दा.

    ReplyDelete
  6. बहुत मर्मस्पर्शी कहानी| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  7. आह .... !
    “आज दो दिलो ने वाकई सन्नाटे को देर तक सुना”
    “.....”
    (नो कमेंट्स प्लीज़!)

    ReplyDelete
  8. जब सन्नाटा हो तो कुछ बोलना ठीक नहीं ... मर्मस्पर्शी कहानी ..

    ReplyDelete
  9. kya baat hai sonal G

    ReplyDelete
  10. आपकी उम्दा प्रस्तुति कल शनिवार (04.06.2011) को "चर्चा मंच" पर प्रस्तुत की गयी है।आप आये और आकर अपने विचारों से हमे अवगत कराये......"ॐ साई राम" at http://charchamanch.blogspot.com/
    चर्चाकार:-Er. सत्यम शिवम (शनिवासरीय चर्चा)
    स्पेशल काव्यमयी चर्चाः-“चाहत” (आरती झा)

    ReplyDelete
  11. जो नहीं मिला उसका क्या गम करे जो मिला वो भी तो बुरा नहीं ...

    लडकियाँ बड़ी जल्दी एडजस्ट कर लेती हैं...पर दिल के एक कोने में सन्नाटा छाया ही रहता है.

    ReplyDelete
  12. मोहब्बत न होती तो शायद दुनिया में कोई रंग न होता... इस रंग की कहानियाँ हमेशा अच्छी लगती हैं!

    ReplyDelete
  13. अच्छी लगी आपकी वर्णन शैली ......

    ReplyDelete
  14. जो दो दिल सन्‍नाटे को सुनने में मुब्तिला हों, तो वहां किसी को सन्‍नाटा भंग करने की इजाजत भी नहीं होनी चाहिए।

    ---------
    कौमार्य के प्रमाण पत्र की ज़रूरत है?
    ब्‍लॉग समीक्षा का 17वाँ एपीसोड।

    ReplyDelete
  15. सोनल जी आपकी कहानियां पढ़ीं। बहुत पसंद आईं।
    इच्छा है कि आपकी कोई कहानी अपने अखबार के जरिए पाठकों तक पहुंचाऊं। यदि आप मेरे प्रस्ताव से सहमत हों, तो कृपया संपर्क करें। मेरा ईमेल है-
    sahil5603@gmail.com

    ReplyDelete
  16. अब इस सन्नाटे में हम क्या कहें ? बहुत ही अच्छा लिखा है आपने !
    मेरी नयी पोस्ट पर आपका स्वागत है : Blind Devotion - अज्ञान

    ReplyDelete
  17. बहुत मर्मस्पर्शी कहानी...

    ReplyDelete
  18. दिल क अंदर तक गयी आपकी कहानी ...

    ReplyDelete
  19. samay kee kami ke baawjud bina pura padhe rah nahi paya hun... comment karke nahi batata to shayad adhura rah jata... aapki kahaani aam hote hue bhi kuchh khaas hai...

    ReplyDelete
  20. Just click this link and read left column http://epaper.inextlive.com/5871/INEXT-LUCKNOW/11.06.11#p=page:n=15:z=2

    ReplyDelete