Pages

Thursday, March 28, 2013

बेवजह

जिरह-ए-जुल्फ में उलझा हुआ हूँ
बेवजह शानो पर बिखरा हुआ हूँ
पास होकर भी दूरियां मीलों की
हूँ अश्क़, आँख से फिसला हुआ हूँ

अधूरी ग़ज़ल का मिसरा हुआ हूँ
कहीं ख़याल में अटका हुआ हूँ
किस लम्हा मुकम्मल हो जाऊं
हूँ ग़ज़ल, बहर से भटका हुआ हूँ

यूँ अपने आप से बिगड़ा हुआ हूँ
छोड़ दुनिया आज तनहा खड़ा हूँ
सामने आँखों के अँधियारा घना है  
हूँ सितारा,राह से भटका हुआ हूँ

कल तुझमें डूबकर तुझसा हुआ हूँ
सांस की उस छुअन से तप रहा हूँ
मुझको रोक ले ख़ाक होने से पहले
हूँ शरारा, ईमान से बुझता हुआ हूँ

18 comments:

  1. देवी तुम्हारे चरण कहाँ हैं ....
    शुरू की आठ लाइन तो जानलेवा हैं ..

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर...गज़ब लिखा |

    ReplyDelete
  3. क्या बात है -आप तो सिद्धहस्त गज़लकार हैं !

    ReplyDelete
  4. अधूरी ग़ज़ल का मिसरा हुआ हूँ
    कहीं ख़याल में अटका हुआ हूँ
    किस लम्हा मुकम्मल हो जाऊं
    हूँ ग़ज़ल, बहर से भटका हुआ हूँ


    हम भी तारीफ़ कर दे रहे हैं। गजल मुकम्मल होने की शुभकामनायें भी।

    चरण भेज दिये गये क्या लंदन? :)

    ReplyDelete
  5. वाह सोनल....
    दाद कबूल करो !!!!

    मुकम्मल ग़ज़ल के लिए बार बार वाह वाह...
    और हाँ..
    चरण भेज दिये गये क्या लंदन? :)
    अनु

    ReplyDelete

  6. अधूरी ग़ज़ल का मिसरा हुआ हूँ
    कहीं ख़याल में अटका हुआ हूँ
    किस लम्हा मुकम्मल हो जाऊं
    हूँ ग़ज़ल, बहर से भटका हुआ हूँ
    गजब की गज़ल
    बधाई

    ReplyDelete
  7. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (30-3-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब, बहुत सुन्दर..

    ReplyDelete
  9. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  10. बहुत खूबसूरती से लिखा है आपने.

    ReplyDelete
  11. वाह वाह वाह वाह ! दाद के सिवा कोई और लफ्ज़ दिल से निकल ही नहीं रहा है ! तो दाद क़ुबूल फरमाएं !

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर....होली की हार्दिक शुभकामनाएं ।।
    पधारें कैसे खेलूं तुम बिन होली पिया...

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,आभार.

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन ग़ज़ल बार बार पढने की इच्छा होती है
    latest post कोल्हू के बैल
    latest post धर्म क्या है ?

    ReplyDelete
  15. bahut sundar panktiya....wah

    ReplyDelete