Pages

Thursday, May 6, 2010

चाँद को बख्श दो

सुन सुन के आशिकी के तराने


पक गया है

चाँद को बख्श दो

वो थक गया है

शक्ल जब अपने यार की

चाँद से मिलाते है

आसमान में चाँद मिया

देख देख झल्लाते है

अपनी सूरत पहचानने में

दम उनका चुक गया है

चाँद को बख्श दो

वो थक गया है

बे- बात की बात

सारी रात किया करते है

हाल-ए-दिल सुना कर

जबरदस्ती

चाँद का सुकून

पीया करते है

तन्हाई,बेवफाई ,आशनाई

के किस्सों से

उसका माथा दुःख गया है

चाँद को बख्श दो

वो थक गया है

कभी दोस्त कभी डाकिया

कभी हमराज़ बनाते है

उसकी कभी सुनते नहीं

बस अपनी ही सुनाते है

इस एकतरफा रिश्ते से

दम उसका घुट गया है

चाँद को बख्श दो ..........

27 comments:

  1. सुन्दर पेशकश ....पर चाँद को बक्श देंगे तो फिर किसे छेड़े ...रात उसी चाँद के सहारे गुज़रती है .....अच्छी प्रस्तुति ....पर आज से हमने चाँद को छेड़ना कम कर दिया

    http://athaah.blogspot.com/

    ReplyDelete
  2. जबरदस्ती

    चाँद का सुकून

    पीया करते है

    तन्हाई,बेवफाई ,आशनाई

    के किस्सों से

    उसका माथा दुःख गया है

    KYA BAAT KYA BAAT KYA BAAT........

    ReplyDelete
  3. दम उसका घुट गया है

    चाँद को बख्श दो ..........


    .........बहुत खूब, लाजबाब !

    ReplyDelete
  4. hehe..are sonal ji ..kaheen ye baat meri ghazalen nazmen padh kar to nahi kah rahi hain na...hehhe:P :P ..mujhe to bahut pasand aayi aap ki ye rachna.... comedy circus me ek dafa dekha tha...ewk shayr aur aur chaand ka jhagda...heheh... aur ab aap usse do kadam aage badh gayi hain ...hehehe...bahut achhi nazm ... par main chaand kio nahi bakhshunga.. :P :D { is P aur D ke beech me ek "h" lagane ki bhi suvudha honi chahiye )

    ReplyDelete
  5. सुन सुन के आशिकी के तराने


    पक गया है

    चाँद को बख्श दो

    वो थक गया है

    bahut khoob !

    ReplyDelete
  6. kaise, vah to sab kuchh dekh leta hai. narayan narayan

    ReplyDelete
  7. बहुत पहले इसी मौंजू पर एक त्रिवेणी लिखी थी....आपको पढ़कर उसी की याद आई...

    ReplyDelete
  8. कभी दोस्त कभी डाकिया
    कभी हमराज़ बनाते है
    उसकी कभी सुनते नहीं
    बस अपनी ही सुनाते है
    इस एकतरफा रिश्ते से
    दम उसका घुट गया है
    चाँद को बख्श दो ..........
    bahur sach likha hai. Badhai!!

    ReplyDelete
  9. "बहुत शानदार लिखा है चाँद पर अलग नज़रिये से बधाई"

    ReplyDelete
  10. प्रभावशाली रचना!

    ReplyDelete
  11. adbhud post hai :)

    thanks a lot :)

    ReplyDelete
  12. प्रभावशाली रचना!

    ReplyDelete
  13. उसकी कभी सुनते नहीं
    बस अपनी ही सुनाते है
    इस एकतरफा रिश्ते से
    दम उसका घुट गया है
    चाँद को बख्श दो
    वो थक गया है

    ReplyDelete
  14. धीरे-धीरे चल चाँद गगन में.....
    हम नहीं बख्शेंगे!!!

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब ... चाँद को छोड़ना वो भी आशिकों के लिए आसान कहाँ है ... अच्छा लिखा है बहुत ...

    ReplyDelete
  16. apne aap me anoothi kavita rach daali Sonal ji.. ekdam anupam kriti.. maza aaya padh kar. kavita ki kavita aur vyangya ka vyangya

    ReplyDelete
  17. बहुत शानदार....
    चाँद----( सोच रहा है )
    मैं भी
    कभी तन्हाई में
    सोचता हूँ
    कि
    मैं लोगों का
    बचपन में मामा
    और जवानी में
    उनका
    महबूब होता हूँ ..


    आपकी रचना बहुत अच्छी लगी :)

    ReplyDelete
  18. thanks very much.isi bahane aapke blog tak aana hogaya. aapbhi khoobsorat kavitayen likhti hain

    ReplyDelete
  19. मेरे लिए... अभिनव सोंच से उपजी कविता..

    ReplyDelete
  20. मजा आ गया ..... कविता में नयापन लगा

    ReplyDelete
  21. आशिको चाँद को बख्श दो.. बढिया है जी..

    ReplyDelete
  22. doosra pahlu to aaj aapne samjhaya..... tauba !
    ch..ch.. ch.. bechara chaand !

    ReplyDelete
  23. चांद बेचारा दुआ देगा सोनल को!

    ReplyDelete