Pages

Monday, May 31, 2010

बंद लिफाफे में गुलाब आता है

आज भी ....


ख़त लिखते है तो जवाब आता है

बंद लिफाफे में गुलाब आता है

देख कर उनको भारी हो जाती है पलकें

रुखसार पर रंग लाल छाता है

अब भी.....

खस गर्मियों में लगा कर निकलते है

सुबह- शाम दोनों वक़्त संवरते है

कलफ लगी सूती चुन्नी की ओट से

मूंगे से सुर्ख लब दमकते हैं

पर....

वो ना आया जिससे वादा था

यकीन जिसपर खुदा से ज्यादा था

आज ज़माने भर की मजबूरियां जताता है

कल जो चाँद लाने पर आमादा था

29 comments:

  1. band lifafe ki baat hui purani..
    aaj to mobile ne jahag le li hai.....

    ReplyDelete
  2. वाह ! कितनी सुन्दर पंक्तियाँ हैं ... मन मोह लिया इस चित्र ने तो !

    ReplyDelete
  3. आपके जज्बातों को पढ़ कर वाह के साथ आह भी निकली...सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  4. वाह, वाह, वाह, वाह जी, बहुत खूब। वो ना आया जिससे वादा था।...सच में वादे होते ही टूटने के लिए हैं।

    ReplyDelete
  5. खस गर्मियों में लगा कर निकलते है

    सुबह- शाम दोनों वक़्त संवरते है

    कलफ लगी सूती चुन्नी की ओट से

    मूंगे से सुर्ख लब दमकते हैं waah prem ka shringaar...iska bhi ek alag hi maza hai...bahut khoob...

    ReplyDelete
  6. aur ab to ishq ka yahi anjaam hota hai...kisi aur sang subah kisi aur sang shaam hota hai

    ReplyDelete
  7. @दिलीप जी
    सुबह शाम तो छोडिये एक मोबाइल के विज्ञापन में तप लम्हों में खेल बदलते दिखाया है

    ReplyDelete
  8. आज ज़माने भर की मजबूरियां जताता है

    कल जो चाँद लाने पर आमादा था

    kya sahi likha hai....badhiya.

    ReplyDelete
  9. कित्ता अच्छा लिखा आपने ..ढेर सारी बधाई व प्यार !!

    _____________
    और हाँ, 'पाखी की दुनिया' में साइंस सिटी की सैर करने जरुर आइयेगा !

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अच्छी रचना...

    ReplyDelete
  11. ख़त लिखते है तो जवाब आता है

    बंद लिफाफे में गुलाब आता है

    देख कर उनको भारी हो जाती है पलकें

    रुखसार पर रंग लाल छाता है
    .........ek taraf pyaar aur doosri taraf dard

    ReplyDelete
  12. जी इतना तगड़ा उल्हाना....कुछ कहने-सुनने का मौका तो दिया होता बेचारे को.....

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  13. वो ना आया जिससे वादा था

    यकीन जिसपर खुदा से ज्यादा था

    आज ज़माने भर की मजबूरियां जताता है

    कल जो चाँद लाने पर आमादा था ....bahut hi acchi rachna.badhai.

    ReplyDelete
  14. ohho..ho.ho......wah sonal :)

    ReplyDelete
  15. बहुत ही अच्छी रचना...

    ReplyDelete
  16. तू ही बता ऐ नामावर , तूने तो देखे होंगे
    कैसे होते हैं वो खत जिनका जवाब आता है .
    (शायद निदा फाज़ली का शेर है )

    ReplyDelete
  17. bahut sundar expression, kam shbdon mein sab kuch...

    ReplyDelete
  18. सोनलजी
    बहुत-बहुत शुक्रिया.
    लिफाफा और गुलाब..
    मैं कहीं बचपन में लौट गया आपकी रचना को पढ़कर।

    ReplyDelete
  19. o tere ki ... super solid....... kaheen aisa na ho koi mere liye ye aakhiri lines kah baithe.. :( shuqar to ye hai chaand lane ka wada maine kabhi nahi kiya ..chand ki itni baaten karne ke baad bhi ....hehehe....han nazm bahut hi shaandaar hai .... bade achhe ache shayar yaad aa gaye ye sochte hi ki kiske kalaam se iska mail karun ... :) aap ki likhi kavitaon me mere sabse fav hui ye .. :)

    ReplyDelete
  20. @आतिश जी
    शुक्रिया तारीफ़ के लिए .. कहीं आप चाँद पर "सर्वाधिकार सुरक्षित " तो नहीं लिखवा रहे ऐसा मत कीजिएगा ... आपके खिलाफ भी कोई संगठन खडा हो जाएगा :-)

    ReplyDelete
  21. Simply too good...

    Khas kar ye roopak,....

    कलफ लगी सूती चुन्नी की ओट से

    मूंगे से सुर्ख लब दमकते हैं

    bahut bahut sundar

    ReplyDelete
  22. सोनल जी, बहुत बढिया लिखा है... भई आपके ब्लोग पर आकर मजा आ गया

    ReplyDelete
  23. बहुत अच्छी रचना |

    ReplyDelete
  24. बहुत अच्छी रचना

    ReplyDelete
  25. आज ज़माने भर की मजबूरियां जताता है
    कल जो चाँद लाने पर आमादा था. बहुत अच्छी पंक्तियाँ हैं जो सच्चाई बयां करती हैं

    ReplyDelete
  26. आज ज़माने भर की मजबूरियां जताता है
    कल जो चाँद लाने पर आमादा था.


    behad khubsurat panktiya...

    ReplyDelete