Pages

Monday, May 17, 2010

क्षणिकाए (दर्द)


वो लड़की

झांकती  झरोखे से

शायद कही धोखे से

उसकी झलक दिख जाए

सारी तृष्णा मिट जाए



वो लड़का

कुछ बेखयाल सा

बिगड़े सुरत-ए-हाल सा

रस्सी सा एठा है

सबसे खफा बैठा है



चार आँखे

दो पथ निहारती

दो सबकुछ वारती

शायद एक हो जाए

एक दूजे में खो जाए



दो अर्थियां

जिन्होंने जन्मा था

उन्होंने मारा है

जाति का एहसान

ऐसे उतारा है

32 comments:

  1. खूबसूरत।
    आज के गोत्रवादी समाज के लिये शानदार प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  2. Hi..

    Kavita main hi prashn kiya hai..
    Dard ka usko naam diya..
    Jinko paala posa jin ne..
    Un ne hi hai maar diya..

    Sundar kavita..
    Antim anuchhed dard bhara..

    DEEPAK..

    www.deepakjyoti.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. वाह!है क्षणिकाए....

    पर क्षणिक असर नहीं है इनका....

    जी बहुत सुन्दर!

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  4. achhe shabdon ko jodkar ek bahut hi khubsurat rachna banayi hai aapne......

    ReplyDelete
  5. दो अर्थियां

    जिन्होंने जन्मा था

    उन्होंने मारा है

    जाति का एहसान

    ऐसे उतारा है ....khubsurat,marmik rachna.

    ReplyDelete
  6. ... बेहद प्रभावशाली अभिव्यक्ति है ।

    ReplyDelete
  7. दो अर्थियां
    जिन्होंने जन्मा था
    उन्होंने मारा है
    जाति का एहसान
    ऐसे उतारा है
    बेहद मार्मिक और त्रासद

    ReplyDelete
  8. बेहद मार्मिक....आज कि त्रासदी लिख दी है....

    ReplyDelete
  9. waah sonal ji bahut sundar aur marmik prastuti...saamyik rachna...badhai

    ReplyDelete
  10. बेहद मार्मिक .......

    ReplyDelete
  11. आप सभी का शुक्रिया अदा करती हूँ हौसलाफजाई के लिए

    ReplyDelete
  12. दो अर्थियां

    जिन्होंने जन्मा था

    उन्होंने मारा है

    जाति का एहसान

    ऐसे उतारा है

    ye sabse achcha hai....

    ReplyDelete
  13. Waah...bahut bahut sundar....teeno hi kshanikayen lajawaab hain...

    ReplyDelete
  14. वाह ...कम शब्दों ..बढ़िया बात कही ...आजकल भी गाँव और देहाती क्षेत्रो में ऐसा बहुत हो रहा ....सरकार मूक बैठी रहती है

    ReplyDelete
  15. शहद की सी मिठास लिए हैं ये क्षणिकाएं..

    ReplyDelete
  16. शहरो का हाल ही बुरा है..दूर देहात का क्या कहना.....जब से वर्ग पर अधारित समाज जन्म से जाति तय करने लगा तब से सिर्फ पतन, पतन औऱ पतन, अभी कितना और होगा पता नहीं..1000 साल से गुलाम देश को जगाने के लिए संतो ने अपना जीवन होम कर दिया..पर नतीजा बेहद निराशजनक....माता पिता पर भरोसा कर उनके ही छांव तले मौत पाई......इससे बढी विंडबना समाज की क्या होगी....अब तो जागो...दोस्तो..हिम्मत करो .

    ReplyDelete
  17. चार आँखे
    दो पथ निहारती
    दो सबकुछ वारती
    शायद एक हो जाए
    एक दूजे में खो जाए
    वाह!!

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब... दर्द समेटे हुए बेहद मार्मिक हैं ये क्षणिकाएं..

    ReplyDelete
  19. बहुत अच्छी लगी|
    आशा

    ReplyDelete
  20. "प्रेम" समाज-विरोधी तत्व है.
    प्रेम जो स्वतंत्रता चाहता है, समाज अगर उसे देदे..तो उसके (समाज के) होने पर प्रश्न चिन्ह लग जाता है. प्रेम निजता की परम घोषणा है और समाज निजता के विपरीत बात है.

    इस द्वन्द को कविता मे खूब उभारा आपने!
    स्नेह!

    ReplyDelete
  21. ओह!! जबरदस्त!

    मार्मिक अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  22. har alag alag para apne aap me ek akvita hai ...aur sara para milkar ek nayi kavita hai...kya dhansu soch hai ... aur kitni sach bhi hai...

    ReplyDelete
  23. Maarmik ... pata nahi aur kitni jaane is jaatiwad ke jahar mein bhasm hongi ... sach mein bahut hi maarmik abhivyakti hi ...

    ReplyDelete
  24. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  25. मार्मिक अभिव्यक्ति!

    ReplyDelete
  26. कम शब्दों में बहुत कहा!

    ReplyDelete