Pages

Thursday, June 17, 2010

पहली उड़ान है सपनो की

जबसे उसने हथेली में

 उगा चाँद देखा है
मैंने उसकी आँखों में
उभरता अरमान देखा है

निकली है पहली बार वो
तनहा सफ़र पर
नाजुक परो ने उसके 
विस्तृत आसमान देखा है

पहली उड़ान है सपनो की
साथ दुआए है अपनों की
माँ  की आँखों में आज
सुकून और इत्मीनान देखा है

18 comments:

  1. "छोटी-सी मगर सारगर्भित रचना...."

    ReplyDelete
  2. भावो को पूर्णता प्रदान करती आपकी ये पंक्तियाँ.....

    बहुत बढ़िया..

    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  3. वाह....बहुत ही सुन्दर भावपूर्ण प्रेरणादायक रचना....
    रचना के भाव और सौंदर्य ,दोनों ने ही मन मोह लिया....

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया..

    ReplyDelete
  5. बहुत ही सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  6. mera bhi aashirwaad maa ke saath her nai udaan ko ........

    ReplyDelete
  7. आपकी यह रचना मजेदार है.
    अब अगली का इंतज़ार है...

    ReplyDelete
  8. बहुत सुन्दर सार्गर्भित रचना बधाई

    ReplyDelete
  9. एक नयी आशा को ले कर बुनी हुई सुन्दर रचना

    ReplyDelete
  10. माँए आँखों में इत्मिनान बड़ी मुश्किल से ही ला पाती है..
    वैसे तस्वीर ने कविता को और रोचक बना दिया है..

    ReplyDelete
  11. पहली उड़ान है सपनो की
    साथ दुआए है अपनों की
    माँ की आँखों में आज
    सुकून और इत्मीनान देखा है

    बहुत अच्छी रचना ... आशावादी ... मा की आँखों का सकूँ और हिम्मत देता है ... लाजवाब ...

    ReplyDelete
  12. प्रेरक - ऐसी उड़ने बहुत जरुरी हैं

    ReplyDelete
  13. ek dum positivity liye rachna ..doordarshan ka ek serial yaad aa gaya.."udaan".. :)

    ReplyDelete
  14. साथियो, आभार !!
    आप अब लोक के स्वर हमज़बान[http://hamzabaan.feedcluster.com/] के /की सदस्य हो चुके/चुकी हैं.आप अपने ब्लॉग में इसका लिंक जोड़ कर सहयोग करें और ताज़े पोस्ट की झलक भी पायें.आप एम्बेड इन माय साईट आप्शन में जाकर ऐसा कर सकते/सकती हैं.हमें ख़ुशी होगी.

    स्नेहिल
    आपका
    शहरोज़

    ReplyDelete
  15. तस्वीर और कविता का गठबंधन मनमोहक है।

    ReplyDelete