Pages

Wednesday, July 21, 2010

लिखो ना ..

लिखो ना ..


पहली मुलाकात

हलकी हरारत

तेज़ धड़कन

आँखों में शरारत

लिखो ना ...

पहली छुअन

हलकी सरसराहट

तेज़ साँसे

बेहद घबराहट

लिखो ना ....

छोटी शामें

लम्बी रातें

बेबाक बे-तकल्लुफ

मीठी बातें

लिखो ना ...

सात फेरे

साथ मेरे

गूंजी शहनाई

नम बिदाई

लिखो ना ...

नया आँगन

सिमटी दुल्हन

कोरे रिश्ते

जुड़ते दिलसे

(जारी .... अभी बहुत लिखना है )

25 comments:

  1. बहुत कुछ लिख दिया आपने अब और क्या लिखूं
    सुन्दर.............

    ReplyDelete
  2. एतना सुंदर जिद के आगे कोई भी लिखने पर मजबूर हो जाएगा...

    ReplyDelete
  3. खूबसूरत ....बस यूँ ही लिखती रहो ना ...

    ReplyDelete
  4. पहली मुलाकात
    हलकी हरारत
    तेज़ धड़कन
    आँखों में शरारत
    बहुत कुछ शब्दों ने कहा. बाकी सब चित्र ने कह दिया.
    वाह्

    ReplyDelete
  5. मैं तो सिर्फ इतना ही लिखकर जाऊंगा-
    जबरदस्त सोनलजी... जबरदस्त..
    आगे की प्रतीक्षा रहेगी

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति।
    राजभाषा हिन्दी के प्रचार-प्रसार में आपका योगदान सराहनीय है।

    ReplyDelete
  7. लिखो न,

    लिखने का आनन्द,
    पढ़ने की अकुलाहट,
    बाहर का शोर,
    शब्दों की आहट,

    ReplyDelete
  8. चाँद शब्दों में आपने बहुत कुछ कहा डाला .........
    अति सुन्दर ..........

    ReplyDelete
  9. Hi..

    Jeevan rath chalta hai rahta..
    Kavi hruday har pal kuchh kahta..
    Likhna antheen rahta hai..
    Kuchh na kuchh likhta hai rahta..

    kramshah ke aage ki kahani..
    sunne ko adheer ho rahe..
    Padhkar teri kavita aadhi..
    Laga ki jaise dherya kho rahe..

    Agli kadi ki Pratiksha main..

    Deepak..

    ReplyDelete
  10. likhti rahiye...aap ki is tarah ki nazmon ka ye craft mujhe bahut pasand hai ... chhoti chhoti lines....deewali ki chutputiya patakhon jaisi ..

    ReplyDelete
  11. आप तो बहुत सुन्दर लिखती हैं....चित्र भी खूबसूरत लगा.
    ***********************

    'पाखी की दुनिया' में आपका स्वागत है.

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर्।

    ReplyDelete
  13. likho na...aise hi roj roj man ki pati
    ki jalne aaye roj yahan sabke man ki bati..
    hole hole dil ja raha hai..likho na :)
    keep it up!!

    ReplyDelete
  14. क्या ज़िद है वो भी इतनी सादगी के साथ,
    .
    इस सादगी पे कौन ना मर जाए ऐ ख़ुदा
    लड़ते हैं मगर हाथ में तलवार भी नहीं.

    ReplyDelete
  15. दुल्हन सिमटी हुई है.. कमाल की बात है

    ReplyDelete
  16. अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  17. गोया .......रूमानियत फ़ैल गयी सफ्हे पे

    ReplyDelete
  18. बहुत सुन्दर्
    अच्छी प्रस्तुति

    ReplyDelete
  19. पढने वाले पूछ रहे है कि बस.. इतना?

    ReplyDelete
  20. apke do shabdon ka jadooooooooooo mujh p chadta hi ja raha hai ........me apki har rachna ka diwana ho cgaya hun

    ReplyDelete
  21. लिखने बैठे तो बात दूर तलक जायेगी...
    सुंदर रचना.

    ReplyDelete
  22. ओए ..ये कब लिखी ? और मैंने क्यों नहीं पढ़ी?वाह ये जो तुमने लिख डाला है न ..बड़ा मुश्किल है लिखना.

    ReplyDelete
  23. डेढ़ साल से पढ़ने वाले इंतज़ार कर रहे हैं लिखो ना !
    बहुत ही निश्छल और प्यारी रचना !

    "(जारी .... अभी बहुत लिखना है )

    लिख गई थीं तुम हम तब से इंतज़ार में हैं
    कब घोलोगी कानों में रस हम खु़मार में है !

    ReplyDelete