Pages

Thursday, July 1, 2010

१ जुलाई , १ साल,१०० वी पोस्ट "राँझा राँझा ना कर हीर "

सौवी पोस्ट लिखने जा रही हूँ ये तो पता था पर आज १ जुलाई को मेरे ब्लॉग का साल पूरा हो रहा है ये अनायास पता चला .... बीज तो अंकुरित हो गया कुछ नन्ही -नन्ही कोंपलें भी दीख रही है ...मन खुश है ..अरे दोहरी ख़ुशी है ... बस आप लोग शुभकामनाये और आशीर्वाद दीजिये .....
------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
जब पहली बार तुमसे निगाह मिली थी तो शायद उस पल मेरी पलक बहुत देर में झपकी थी,जब दुबारा तुम्हे पलट कर देखा को दिल इतनी जोर से धड़क रहा था की कोई मेरी साइड में खड़े होकर मेरी धड़कन सुन सकता था, माथे पर पसीने की बूंदे,हाँथ पाँव ठन्डे ..सारे हार्ट अटैक के लक्षण.




उसके बाद महीनो तक तुम दिखे नहीं तुम्हारी शक्ल धुंधली सी सी होने लगी ,तुम्हे भूल गई ये तो नहीं कहूँगी पर भीड़ में कई बार तुम्हे ढूँढा जरूर, कमबख्त उम्र का ये मोड़ होता ही ऐसा है पूरी तरह केमिकल लोचा ,,,


कालेज का पहला दिन,कुछ घबराहट कुछ रोमांच सहेलियों के साथ अपनी क्लास ढूंढ रही थी,अचानक दिल मनो १२ वी मजिल से ग्राउंड फ्लोर पर बिना लिफ्ट गिर गया, तुम रैगिंग के लिए सामने थे ...उफ़ तुम क्या बोल रहे थे एक शब्द पल्ले नहीं पड़ रहा था... सारी दुनिया समझ रही थी मैं नर्वस हूँ पर क्यों ..ये तो तुमको भी नहीं पता....


अचानक ....कुछ सोचते हुए मुई लम्बी सी मुस्कान होंठो पर खेल गई ..तुमने नोटिस किया और सबके सामने एकदम बोल दिया "अरे क्लोसअप स्माइल " .सबकी निगाहें मुझ पर और मैं गडी जा रही थी ....


उस रात घंटो तुम्हारे ख्यालों के साथ करवट बदलती रही ..ब्लू शर्ट में बहुत सही लग रहे थे तुम ,बालों का स्टाइल कुछ ओके सा ही पर चलता है,हाँथ में मोती की अंगूठी .. गुस्सा बहुत आता है क्या ?


रात और सुबह के बीच का फासला कुछ घंटो का ही था और मैं फिर तैयार थी कालेज के लिए .... पर नामुराद ऑटो हड़ताल पर ...आज ही ये होना था फिर सन्डे ...दो दिन कितने मुश्किल थे क्या बताऊँ


सोमवार की सुबह ,शिव जी को हाँथ जोड़े ...आईने के सामने थोड़ा ज्यादा वक़्त लगाया,आज बाल कुछ ज्यादा मुलायम लगे ..चेहरा भी चमक रहा था ,कहीं पढ़ा था प्यार आपको और खूबसूरत बना देता है ..पर तुमको कैसी लगती हूँ ये ज्यादा improtant हैं .................... कोई मौक़ा नहीं छोड़ा मैंने तुम्हारे करीब आने का ... कभी नोट्स ,कभी हेल्प ..कभी कभी लगता तुम भी मुझे पसंद करते हो ..पर बोलना तो चाहिए ..


शायद मुझे ही प्रपोज मारना पडेगा .......... कही कोई और ना आ जाए तेरे मेरे बीच में ..


हर आशिक को लगता है किसी को पता नहीं चलेगा पर कमबख्त छुपता कहाँ है मानसी ने पकड़ लिया एक दिन ..क्या बात है मैम...कहाँ निगाहें और दिल अटका बैठी हो ......... दिल की लिफ्ट फिल १२ वी से बसेमेंट में ..धडाम चोरी पकड़ी गई ...कोई नहीं एक सांस में बता दिया उसको ...


पहले उसने बेहताशा हँसना शुरू किया


.."तुझे और कोई नहीं मिला ",


उसके बाद मैं बहुत देर तक इमोशनल रोलर कोस्टर पर सवार रही . हे भगवान् मुझे यही मिला था .. अगर मेरी सौत कोई लड़की होती तो लड़ भी जाती ...पर यहाँ तो रांझा रांझे पे मर रहा है ..........रांझा रांझा ना कर हीर
"न वो रांझा था ना मैं हीर थी

जो हुआ  वो तकदीर थी
 लम्हा जब गुजरा
दिल के दाग में हलकी पीर थी "

अपनी स्टोरी द एंड ..

46 comments:

  1. एक साथ दो दो बधाई...एक साल पूरा वो भी शतक के साथ...अनेक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  2. शतक .......अनेक शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  3. शतक की और एक साल पूरा होने की बधाई....कहानी का अंदाज़ बहुत बढ़िया है....पर क्या वाकई यह केवल कहानी ही है?

    ReplyDelete
  4. शतक और एक वर्ष .....पूरा करने के लिए ढेर सारी शुभकामनएं .....ये कहानी बहुत ही दिलचस्प है .

    ReplyDelete
  5. दोनो उपलब्धियों के लिए बहुत बहुत बधाई .. आगे और भी मुकाम हासिल करते जाएं .. शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  6. केमिकल लोचा में इमोशन की छौंक बढ़िया है.शतकवीर होने की बधाई .Happy blog-birthday to you.

    ReplyDelete
  7. हार्दिक शुभकामनायें
    क्या यह कहानी है या
    सचमुच ऐसे रांझें से दिल लगा बैठी थी!!!

    प्रणाम

    ReplyDelete
  8. न वो रांझा था ना मैं हीर थी
    जो हुआ बस वो तकदीर थी
    बस लम्हा जब गुजरा
    दिल के दाग में हलकी पीर थी

    ReplyDelete
  9. जिसने प्यार नहीं किया उसने क्या किया।
    जो रोया नहीं उसकी तो जिन्दगी बरबाद है।
    जिसकी नींद नहीं उड़ी.. उसे तो हर हाल में पछताना ही चाहिए.
    आपकी रचना ने मुझे अंखियों के झरोखे फिल्म की याद दिला दी है। क्या दिन थे वो भी।
    तब शायद इन सुंदर भावनाओं का कोई मतलब भी हुआ करता था लेकिन आज बाजारवाद ने सारे रोमांच की मिट्टी पलीद कर दी है।
    आप लिखती तो बहुत शानदार है ही, आज की पोस्ट बहुत मासूम बदमाशी सी है। अच्छा लगा।
    और हां... आपको बधाई। सौवीं पोस्ट के साथ एक साल पूरा करने के लिए।

    ReplyDelete
  10. बधाई हो, अच्छे लेखन की, एक वर्ष की और सौ पोस्टों की । उफ मेरी कब होंगी ।

    ReplyDelete
  11. सस्पेंस बहुत सही था.. ठीक वैसे ही जैसे कहानी का नायक ब्लू शर्ट में बहुत सही लगा था..
    इसके सिक्वल में दोनों रांझाओ की लव स्टोरी भी बना दो..

    और हाँ बिना मिठाई वाली खुशखबरी नहीं चलेगी..

    ReplyDelete
  12. sonal..bahut bahut badhai..bas blog jagat mein yun hi tumhara sitara buland rahe :)

    ReplyDelete
  13. सौवां पोस्ट और ए़क साल
    दो मौके इक साथ
    साथ में पुरानी याद
    मीठी सी कसक बेमिसाल

    बहुत बहुत बधाई सोनल जी

    ReplyDelete
  14. एक साल पूरा होने पर शतकीय पोस्ट के साथ आप तीन दशक पीछे ले गईं और अंत में 12वीं मंज़िल से सीधा बेसमेंट में जा पटका. सच है, मोहब्बत में इंसान सीढियाम चढता ऊपर जाता है और लिफ्ट से नीचे गिरता है.
    बधाई!

    ReplyDelete
  15. आपको

    बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत

    बधाई

    ReplyDelete
  16. 100वीं पोस्ट एवं ब्लागिंग के एक वर्ष पूर्ण होने पर बधाई।

    आगे भी कीर्तिमान बनाएं-शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  17. शतक पूरे होने की बधाई...शुभकामनाएँ

    ReplyDelete
  18. शतक के लिये और अच्छी लेखन के लिये बहुत बहुत बधाई।

    ReplyDelete
  19. महफूज़ अली जी से सहमत.

    शतकीय पोस्ट की शुभकामनांए.

    ReplyDelete
  20. Dil ki Dastan is trah se sunai ke koi yad aagaya
    Wo kale uljhe bal or alsaati aankhe Sharmeela Chehra jo dil me Utar gaya ...
    Shubkamnay.

    ReplyDelete
  21. दो रांझा आपको यहाँ भी मिल गए ---------१०० और १------------
    दोनों की बधाई
    जय हिन्द, जय बुन्देलखण्ड

    ReplyDelete
  22. ब्लागिंग के एक वर्ष और सौवीं पोस्ट मुबारक ।सिलसिला चलता रहे---

    ReplyDelete
  23. शतक पूरे करने की बहुत बहुत बधाई। लेखन शैली बहुत पसंद आई।

    ReplyDelete
  24. is kahani pe to dost log film bana chuke hain ..par iske likhe jane ka dhang kafi alag hai ...bahut pasand aayi ..ranjha ranjha ka sahi istemal yaheen hua hai ...heheheeh..salgirah aur century.. dono ki badhai ..:)

    ReplyDelete
  25. shbd chitra sundar lage sonal :)

    ReplyDelete
  26. हाय मैं शर्म से लाल हुआ!
    बेबाक! बेख़ौफ़! बेतकल्लुफ!
    जिसने इश्क ना किया, उसने क्या किया मोहतरमा?!
    खैर किस्मत से ज्यादा और वक़्त से पहले कहाँ किसी को कुछ मिला है!???
    आशीष रस्तोगी
    (मेरा सरनेम सिर्फ आपकी जीके के लिए!!!)

    ReplyDelete
  27. Hi..

    Aha.. Kya ending tha..us chhoti si love story ka.. To kya wo, Woooo.. Tha..haha..
    'Blue shirt main tum bahut achhe lag rahe the' aha.. Kitne meethe ahsaas hain..

    'moti ki anguthi..kya bahut gussa aata hai..' to kya gussa aane walon ko moti ki anguthi pahnani chahiye? Aur jise gussa na aata ho use,..??

    1st Jul, sarkari naukri walon ke liye celebration ka din hota hai.. Annual Increment jo lagta hai.. Par ab se hamen muskurane ka ek aur karan mil gaya.. Eshwar har 1st jul ko aapse aisi hazaron post likhne ka awsar de aur hamen unhen padhne ka..

    Es suavsar par Meri shubhkamnayen sweekaren aur mere hisse ki meethai bhej den.. Pata dun kya..?

    Sauvin post ki bhi mubarakbad..

    Badhai..

    Deepak..

    ReplyDelete
  28. आज पहुँचे आपकी पोस्ट पर, आपको बहुत बहुत बधाई, जबरदस्त लगा १२ वी मजिल से ग्राउंड फ्लोर पर बिना लिफ्ट गिर गया,

    जबरदस्त!!!

    ReplyDelete
  29. एक साल और १०० पोस्ट भी ... बहुत बहुत बधाई ... कहानी दिलचस्प और दमदार है ...

    ReplyDelete
  30. सौवीं पोस्ट के साथ एक साल पूरा करने के लिए दोहरी बधाई। कहानी का अंदाज़ बहुत दिलचस्प है...

    ReplyDelete
  31. बहुत बहुत बधाई सोनल जी
    बहुत बहुत बधाई सोनल जी
    बहुत बहुत बधाई सोनल जी

    ReplyDelete
  32. एक साल और १०० पोस्ट भी ... बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  33. बहुत देर से पहुँच पाया ....माफी चाहता हूँ..

    ReplyDelete
  34. शतक पूरे करने की बहुत बहुत बधाई...

    ReplyDelete
  35. बहुत खूब! बधाई फ़िर से।

    ReplyDelete
  36. mein abhi abhi aapka blog padhne laga hoon...fir bhi badhai to de hi sakta hoon...

    ReplyDelete
  37. bahut bahut badhai.................

    ReplyDelete
  38. बधाई। अभी ब्लॉग की रचनाएं पढ़नी बाकी हैं...

    ReplyDelete